Press "Enter" to skip to content

Divorce/Talak Ka Kids Ki social, mental and physical health Par Affect

Divorce   yani talak naam hi bahut bura hai. Talak aajkal bahut common ho gaya hai. Aaj kal male aur female me sahan karne ki power bilkul khatam ho gayi hai. Aaj har choti-moti apsi baaten hi divorce ka main karan ban gayi hai. 

Waise divorce hamare samaj me achchi baat nahi maani jati. Ye ek samajik kalank hai. Ek aisa joda jo hamesha saath rahne ki kasam khata hai. Wahi couple bina apne bachchon ke baare me soche hamesha ke liye alg-alg ho jata hai. 

Divorce ka sabse jyada affect bachchon par social, mental aur physical health par padta hai. 

 

 

 

Divorce Ka Kids Ki social, mental and physical health Par Affect

 

 

Divorce/Talak Ka Kids Par Affect

 

Bachche hote dil ke komal 

Mata-pita ke dil ki dhadkan

Gahr me jo rahe mohabatt pyar 

Isi se banta bachchon ka sansaar

Mata-pita ke kadmon ka

Karte bachche anugaman 

Apne maa-baba ke pyar ko 

Kids chahen har janam-janam

Ai maa-baba raho aap sda sang-sang

Apke hue juda to kaise rahenge sang-sang

Duri aap dono ki sahan nahi kar payenge

Jo dekhe milkar sapne wo to tut hi jayenge

Algaav aapka hua to socho kaise 

Hamara komal mann sah payega 

Hamare tann-mann ka vikas

Hamesha ke liye ruk jayega 

Apki baaten hamari samjh nahi aati hain

Divorce naam hi hamara komal mann jalati hain

Mujhe to aap dono ka pyar chahiye

Maa-baba aap please mujhe chodkar na jaiye

Waise to mujhe pyare hain nani aur nana

Par aap dono se hi hai jeevan ka tana-bana

Meri khatir ghar ko khush-haal bana do

Aur sab bachchon jaise sapne mere sja do 

Mujhe nahi chahiye kapde aur khilone

Dur dono se ho jaunga soch laga hun darne

Mujhe pyar nahi lena adha aur adhura 

Mujhko de do maa-baba dular apka pura 

Please mere emotions ko aap samjh lo

Ik duje se kabhi na dur hone ki kasam lo

Sang hum sab rahenge to har

mushkil ko kar denge asaan 

Fir dekhna mahkega kaise

hamara pyara ghar-aangan.

 

Divorce का बच्चों पर प्रभाव 

 

बच्चे होते दिल के कोमल

मातापिता के दिल की धडकन

घर में जो रहे मौह्बत्त प्यार

इसी से बनता बच्चों का संसार

मातापिता के कदमों का

करते बच्चे अनुगमन

अपने माँबाबा के प्यार को

किड्स चाहें हर जन्मजन्म

ऐ माँबाबा रहो आप सदा संगसंग

आप हुए जुदा तो कैसे रहेंगे संगसंग

दुरी आप दोनों की सहन नहीं कर पाएंगे

जो देखे मिलकर सपने वो तो टूट ही जायेंगे

अलगाव आपका हुआ तो सोचो कैसे

हमारा कोमल मन सह पायेगा

हमारा तनमन का विकास

हमेशा के लिए रुक जायेगा

आपकी बातें हमारी समझ नहीं आती है

डाइवोर्स नाम ही हमारा कोमल मन जलाती है

मुझे तो आप दोनों का प्यार चाहिए

माँबाबा आप प्लीज मुझे छोड़कर ना जाये

वैसे तो मुझे प्यारे हैं नानी और नाना

पर आप दोनों से ही है जीवन का तानाबना

मेरी खातिर घर को खुशहाल बना दो

और सब बच्चों जैसे सपने मेरे सजा दो

मुझे नहीं चाहिए कपड़े और खिलोने

दूर दोनों से हो जाऊंगा सोच लगा हूँ डरने

मुझे प्यार नहीं लेना आधा और अधुरा

मुझको दे दो माँबाबा दुलार आपका पूरा

प्लीज मेरे emotions को आप समझ लो

इक दूजे से कभी न दूर जाने की कसम लो

संग हम सब रहेंगे तो हर

मुश्किल को कर देंगे आसान

फिर देखना महकेगा कैसे

हमारा प्यारा घरआंगन.

 

दोस्तों, मेरी सबसे ये ही अर्ज़ है कि  आप सब अपने साथी के साथ खुश रहें. हर पल ख़ुशी में बिताएं औए अपना परिवार को तलाक़ नाम के जहर से दूर रखें. अपने बच्चों को एक खुशनुमा माहौल दे. जो उनके सामाजिक, मानसिक और शारीरिक विकास को बढ़ने में सहायक हो. 

 

2 Comments

    • sabhindime sabhindime Post author | 21st October 2017

      @Rajeev Moothedath
      ji thanks apka.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: