dental care

Top common dental problems and home remedies to cure

Health

मजबूत और स्वस्थ दांत ही beauty की पहचान है, मोती की तरह चमकते दांत किसे पसन्द नहीं। लेकिन dental problems सबको होती है।

इसमे दांतोंकी चमक, सुंदरता और खूबसूरती को कायम रखना चिकित्सकीय देंन है। चाहे पुरुष हो या महिला अपने दांतों के प्रति लापरवाही कभी न बरतें।

dental problems

बाजार में आपको कई तरह के पेस्ट मिल जाएंगे जो आपके मुंह की ताजगी और  दांतों की चमक को बरकरार रखने के अनेकों दावे करते हैं। 
बहुत संख्या में लोग इन्ही पेस्ट का उपयोग करते हैं, बहुत कम घर ऐसे होंगे जो natural products प्रयोग करते हों ।

ज्यादातर लोग बाजार के दन्त पेस्ट ही उसे करते हैं,
लेकिन फिर भी उनके दांतों में अनेक बीमारी पायी जाती हैं जैसे पायरिया, दांतों की जड़ों का खोखला होना, साँसों में बदबू होना, दांतों में मैल जमना, दांत में कीड़ा लगना आदि। 


लेकिन जो लोग प्राकृतिक चीजों का इस्तेमाल करते हैं उनके दांतों में इस तरह की बीमारियां नहीं मिलेगी, क्योंकि प्रकृति हमे सुंदरता और स्वस्थता प्रदान करती है। 


दांतों के प्रति की गयी जरा सी लापरवाही दांतों की खूबसूरती को हमसे छीनकर हमारे दांतों को अनेक बीमारी देते हैं। अगर दांतों की नियमित देखभाल ना की जाये तो हमारे दांतों को निम्न बीमारिया घेर लेती हैं:-

Dental problems


1.जिंजिवाइटिस
2.कीड़ा लगना 
3.मसूढ़ों से खून आना 
4.प्लेक 

हमारे दांतों को जो चीज ज्यादा नुक्सान पहुंचाती है वो है चीनी, इसके अलावा जो लोग धूम्रपान, पान और गुटखे का सेवन करते हैं उनके दांत भी समस्यों से घिरे रहते हैं, इनसे cancer हो सकती है। 

इसलिए अगर आप अपने दांतों को हमेशा सुंदर, चमकदार और स्वस्थ बनाना चाहते हों तो हमेशा इन गलत आदतों से दूर रहें। 

चीनी का सेवन भी ज्यादा मात्रा में ना करें और कोई मीठी वस्तु खाएं जैसे मीठी, choclate और टॉफ़ी आदि खाने के बाद अपने दांतों की सफाई जरूर करें। 

कई बार दांतों में पीलापन दिखाई देता है, इस पीलेपन को fluorosis कहते हैं। जो पानी में florin की ज्यादा मात्रा में होना है। दांतों के कुछ रोग  आम समस्या बन गयी है:-

पायरिया (dental problems)

अगर कभी brush करते वक़्त आपके मसूढ़ों से blood आने लगे तो लापरवाही ना करें, तुरन्त doctor से परामर्श करें। वरना उनमे मवाद भी पड़ सकता है, और इसी रोग को पायरिया कहते हैं। 
पायरिया को medical भाषा में जिंजिवाइटिस कहा जाता है। अगर ये रोग और ज्यादा फ़ैल जाये तो इसे पेरियोडोंटाइटिस भी कहते हैं ,

दांत में कीड़ा लगना (dental problems):-

दांत में कीड़ा लगने को दंतक्षय कहा जाता है, ये दांतों की ऐसी बीमारी है जिसमे खाना खाते समय भोजन के कण दांतों में जमा होकर तेजाब बनाता है, जो दांत की सतह को गलाकर काले धब्बे बन जाते हैं। इसे दंतक्षय कहते हैं। 

टारटार:-

इस रोग में दांतों के चारों तरफ मैल जमा हो जाता है, जिसे दन्त शर्करा या टारटार कहते हैं, ये नियमित दांत की सफाई नहीं करने से होता है। और इसी मैल के कारण दांत खुरदुरे हो जाते हैं। 

अपने दांतों को स्वस्थ और चमकदार रखने के लिए निम्न सावधानियां बरतें:-

  • अपना ब्रश हमेशा मुलायम लें ना कि सख्त, और कभी भी दांतों को जोर-जोर से ना रगड़ें। 
  • सबसे पहले अपने दांतों को सुबह उठाते ही और रात को सोने से पहले रोजाना साफ़ करें। 
  • toffees, chocolate  और मिठाइयों का ज्यादा सेवन करने से बचें। v  हमेशा कैल्शियम युक्त वस्तुओं का सेवन करते रहें क्योंकि calcium दांत और bones के लिए बहुत लाभकारी होता है। 
  • दांत मजबूत करने के लिए lemon के छिलके में नमक लगाकर दांत साफ़ करें और मुंह की बदबू से भी निजात पाएं।
  • जब भी कुछ खाएं उसके बाद कुल्ला जरूर करें। 
  • हरी सब्जी और फलों का नियमित सेवन करें इससे दांत और मसूढ़े मजबूत होंगे, सरसों के तेल में चुटकी भर नमक मिलकर दांतों पर मलें और लाभ पाएं। 
  • अपने दांतों में कभी भी ऑलपिन,niddleऔर पिन न डालें। 
  • कई बार दांतों की कमजोरी, सांसों की बदबू का कारण पेट की बीमारी होती है। इसलिए अपने पेट को हमेशा बीमारी से दूर रखें। 
  • Weekमें 2 बार दातुन (कोई भी) जरूर करें। 
  • बच्चों के दांतों की सुरक्षा के लिए हमेशा उन्हेंchoclateऔरcold drinksसे हमेशा दूर रखें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.